Топ-100
पिछला

ⓘ प्रौद्योगिकी, व्यावहारिक और औद्योगिक कलाओं और प्रयुक्त विज्ञानों से संबंधित अध्ययन या विज्ञान का समूह है। कई लोग तकनीकी और अभियान्त्रिकी शब्द एक दूसरे के लिये प ..




                                               

सूचना प्रौद्योगिकी

सूचना प्रौद्योगिकी आंकड़ों की प्राप्ति, सूचना संग्रह, सुरक्षा, परिवर्तन, आदान-प्रदान, अध्ययन, डिजाइन आदि कार्यों तथा इन कार्यों के निष्पादन के लिये आवश्यक कंप्यूटर हार्डवेयर एवं साफ्टवेयर अनुप्रयोगों से सम्बन्धित है। सूचना प्रौद्योगिकी कंप्यूटर पर आधारित सूचना-प्रणाली का आधार है। सूचना प्रौद्योगिकी, वर्तमान समय में वाणिज्य और व्यापार का अभिन्न अंग बन गयी है। संचार क्रान्ति के फलस्वरूप अब इलेक्ट्रानिक संचार को भी सूचना प्रौद्योगिकी का एक प्रमुख घटक माना जाने लगा है और इसे सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी भी कहा जाता है। एक उद्योग के तौपर यह एक उभरता हुआ क्षेत्र है।*

                                               

विंडोज़ सर्वर एसेंशियल्स

विंडोज़ सर्वर एसेंशियल्स या एसबीएस) माइक्रोसॉफ्ट का एक एकीकृत सर्वर सूट है, जिसे ऐसे छोटे और मध्यम आकार के व्यवसायों के नेटवर्क इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिनमें 25 से अधिक उपयोगकर्ता या 50 से अधिक डिवाइस नहीं हैं। एप्लिकेशन सर्वर प्रौद्योगिकियों को मज़बूती से एकीकृत किया गया है, ताकि एकीकृत सेटअप, बढ़ी हुई निगरानी, रिमोट वेब वर्कप्लेस, एकीकृत प्रबंधन कंसोल और रिमोट एक्सेस जैसे प्रबंधन लाभ प्रदान किये जा सकें। SBS 2003 की रिलीज़ के बाद से, विंडोज़ सर्वर या अन्य सर्वर उत्पादों के लिए एक समान सर्विस पैक का उपयोग OS को अपडेट करने के लिए किया जा सकता है।

                                               

रीता बरनवाल

रीता बरनवाल यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ़ एनर्जी के भीतर न्यूक्लियर एनर्जी के वर्तमान सहायक सचिव हैं । 20 जून को सीनेट द्वारा उस स्थिति की पुष्टि की गई और 11 जुलाई, 2019 को शपथ ली गई। इससे पहले उन्होंने इडाहो नेशनल लेबोरेटरी में गेटवे फॉर एक्सीलरेटेड इनोवेशन इन न्यूक्लियर पहल के निदेशक के रूप में काम किया था, जो अगस्त 2016 में शुरू हुई थी।

                                               

मीशो

मीशो एक भारतीय मूल का सोशल कॉमर्स प्लेटफॉर्म है जिसकी स्थापना आईआईटी दिल्ली के स्नातकों विदित आत्रे और संजीव बरनवाल ने दिसंबर 2015 में की थी। यह छोटे व्यवसायों और व्यक्तियों को व्हाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम आदि जैसे सामाजिक चैनलों के माध्यम से अपने ऑनलाइन स्टोर शुरू करने में सक्षम बनाता है। मीशो का मुख्यालय बेंगलुरु, भारत में है और 2016 में वाई कॉम्बिनेटर के लिए चयनित होने वाली तीन भारतीय कंपनियों में से एक थी। यह गूगल लॉन्चपैड के पहले बैच का हिस्सा भी था - सॉल्व फॉर इंडिया प्रोग्राम। जून 2019 में, मीशो फेसबुक से निवेश प्राप्त करने वाला भारत का पहला स्टार्टअप बन गया।

                                               

संजीव बरनवाल

बरनवाल का जन्म हज़ारीबाग, झारखण्ड, भारत में दसवीं कक्षा तक वह वही थे, उसके बाद वह आगे की शिक्षा ग्रहण करने के लिए रांची चले गए। उन्होंने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी दिल्ली में कंप्यूटर साइंस में स्नातक की डिग्री पूरी की। उन्होंने भारतीय मुद्रा के मूल्यवर्ग को पहचानने के लिए नेत्रहीनों के लिए एक ऐप बनाया।

                                               

वेंसेस कासरेस

वेनससलाओ कासरेस, जिन्हें वेंसेस कासरेस के रूप में भी जाना जाता है एक अर्जेंटीनी प्रौद्योगिकी उद्यमी और परोपकारी व्यक्ति हैं और उनके पास प्रौद्योगिकी और वित्तीय उद्यमों में विशेषज्ञता सहित वैश्विक व्यवसाय का अनुभव है। वे बिटकॉयन वालेट प्रदाता, ज़ापो के CEO हैं और उन्होंने इंटरनेट अर्जेंटीना, वनाको गेम्स, पेटागॉन, लेमन वालेट, और बैंको लेमन की स्थापना की। कासरेस पेपॉल और कॉयन सेंटर के बोर्डों में मौजूद हैं और वे किवा और वीवा ट्रस्ट के बोर्ड सदस्य रहे हैं। वे बिटकॉयन की वकालत करते हैं जो उनके विचार में इंटरनेट से बड़ा होगा। एलेन एंड कंपनी सन वैली कॉन्फ्रेंस में प्रायः बोलने वाले वक्ता कासरेस न ...

प्रौद्योगिकी
                                     

ⓘ प्रौद्योगिकी

English version: Technology

प्रौद्योगिकी, व्यावहारिक और औद्योगिक कलाओं और प्रयुक्त विज्ञानों से संबंधित अध्ययन या विज्ञान का समूह है। कई लोग तकनीकी और अभियान्त्रिकी शब्द एक दूसरे के लिये प्रयुक्त करते हैं। जो लोग प्रौद्योगिकी को व्यवसाय रूप में अपनाते है उन्हे अभियन्ता कहा जाता है। आदिकाल से मानव तकनीक का प्रयोग करता आ रहा है। आधुनिक सभ्यता के विकास में तकनीकी का बहुत बड़ा योगदान है। जो समाज या राष्ट्र तकनीकी रूप से सक्षम हैं वे सामरिक रूप से भी सबल होते हैं और देर-सबेर आर्थिक रूप से भी सबल बन जाते हैं।

ऐसे में कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिये कि अभियांत्रिकी का आरम्भ सैनिक अभियांत्रिकी से ही हुआ। इसके बाद सडकें, घर, दुर्ग, पुल आदि के निर्माण सम्बन्धी आवश्यकताओं और समस्याओं को हल करने के लिये सिविल अभियांत्रिकी का प्रादुर्भाव हुआ। औद्योगिक क्रान्ति के साथ-साथ यांत्रिक तकनीकी आयी। इसके बाद वैद्युत अभियांत्रिकी, रासायनिक प्रौद्योगिकी तथा अन्य प्रौद्योगिकियाँ आयीं। वर्तमान समय कम्प्यूटर प्रौद्योगिकी और सूचना प्रौद्योगिकी का है।

                                     

1.1. प्रौद्योगिकी का प्रभाव समाज

1) प्रौद्योगिकी, व्यापार के माध्यम से लोगों तक पहुँचती है

आदमी को व्यापार से नई खोजों की उम्मीद है। समाज या राष्ट्र की आर्थिक समृद्धि लाभ के लिए व्यापापर निर्भर करता है।

2) उपभोक्ताओं की उच्च उम्मीद

जब प्रौद्योगिकी बढ़ता है तब उपभोक्ताओं की उम्मीद भी उत्पादों की विविधता, अच्छी गुणवत्ता और सुरक्षा की तरह बढ़ जाती है।

3) प्रणाली जटिलता

प्रौद्योगिकी जटिलता का कारण है। आधुनिक तकनीक बेहतर है और तेजी से काम करते हैं। लेकिन अगर वे बिगड़ जाते है तो उन्हें मरम्मत करने के लिए विशेषज्ञों की सेवाओं की जरूरत है।

4) सामाजिक परिवर्तन

कोई नया आविष्कार, नए रोजगार के अवसर खोल सकता है। इस के कारण श्रमिकों के लिए अवकाश के समय बढ़ जाती है।

5) आवश्यकता

मनुष्य की आवश्यकता में दिन प्रतिदिन परिवर्तन होते रहते हैं। प्रधोगिकी के माध्यम से वह आवश्यकताओं को पूरा कर सकता हैं।

                                     

1.2. प्रौद्योगिकी का प्रभाव अर्थव्यवस्था

1) बढ़ती उत्पादकता

प्रौद्योगिकी, उत्पादन को बढ़ाने में मदद करती है।

2) अनुसंधान और विकास पर खर्च करने की जरूरत

अनुसंधान और विकास के लिए धन का आवंटन करते समय, समय एक महत्वपूर्ण कारक है।

3) जॉब अधिक बौद्धिक हो जाते हैं

नौकरियां अधिक बौद्धिक और उन्नत हो गई हैं। नौकरियों के लिए अब शिक्षित या कुशल श्रमिकों के सेवाओं की आवश्यकता है।

4) उत्पादों और संगठनों के बीच प्रतियोगिता

एक नए उत्पाद की शुरूआत एक और संगठन की गिरावट का कारण है।

5) बहुराष्ट्रीय कम्पनी की स्थापना

बहुराष्ट्रीय कंपनियों की शुरूआत सबसे अच्छा उदाहरण है।

                                     

1.3. प्रौद्योगिकी का प्रभाव शिक्षा

1) एक कमरे कक्षाओं की गिरावट

शिक्षा प्रक्रिया विशाल होता जा रहा है।

2) केंद्रीकृत दृष्टिकोण से पारी

शिक्षा के क्षेत्र में शक्तियों का समान वितरण।

3) ई-शिक्षा

इंटरनेट का उपयोग करके सीखने की प्रणाली शुरू की गई है।

                                     

1.4. प्रौद्योगिकी का प्रभाव वातावरण

1) पारिस्थितिक संतुलन

प्रौद्योगिकी से पर्यावरण पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव पड़ते हैं।

2) प्रदूषण

वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण आधुनिक तकनीक का उपयोग करने के कारण बढ़ गए हैं।

3) नए रोग

प्रौद्योगिकी के कारण नए रोग फैल जाते है।

4) प्राकृतिक संसाधनों की कमी

तकनीकी क्रांति के कारण प्राकृतिक संसाधनों दुर्लभ होते जा रहे हैं।

5) पर्यावरण का विनाश और वन्यजीवन

वन्यजीव प्रजातियों के विलुप्त होना पर्यावरण के लिए खतरा है।

                                     

1.5. प्रौद्योगिकी का प्रभाव कारखाना स्तर

1) संगठनात्मक संरचना

उदाहरण: लाइन ऑफ़ कमांड, स्पान ऑफ़ कण्ट्रोल आदि।

2) जोखिम का डर

उदाहरण: तकनीक में परिवर्तन का डर

3) परिवर्तन के लिए प्रतिरोध

कर्मचारी प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में परिवर्तन का विरोध करते हैं।

4) सम्पूर्ण गुणवत्ता प्रबंधन टोटल क्वालिटी कन्ट्रोल

उदाहरण: दोष के बिना उत्पादन

5) लचीला विनिर्माण प्रणालियाँ

उदाहरण: असेंबली लाइन इंडस्ट्री

                                     
  • स फ टव यर अन प रय ग स सम बन ध त ह स चन प र द य ग क क प य टर पर आध र त स चन - प रण ल क आध र ह स चन प र द य ग क वर तम न समय म व ण ज य और व य प र क
  • भ रत य प र द य ग क स स थ न श र खल क द सर सबस बड पर सर और मह र ष ट र र ज य क सबस बड व श वव द य लय ह आई. आई. ट , म बई भ रत य प र द य ग क स स थ न
  • र ष ट र य प र द य ग क स स थ न, द र ग प र र ष ट र य प र द य ग क स स थ न, क र क ष त र र ष ट र य प र द य ग क स स थ न, जमश दप र म लव य र ष ट र य प र द य ग क स स थ न
  • स न य प र द य ग क Military technology एक व हद क ष त र ह ज उन सभ प रण ल य एव उपकरण स सम बन ध त ह ज स न क उपय ग क ल य ह यह सबस प र न
  • ग व न द बल लभ पन त क ष एव प र द य ग क व श वव द य लय प तनगर व श वव द य लय य क वल प तनगर भ रत क पहल क ष व श वव द य लय ह इसक उद घ टन जव हरल ल
  • र ड क स थ त र ड क व श वव द य लय क भ भ रत य प र द य ग क स स थ न क दर ज द य गय भ रत य प र द य ग क स स थ न म श क ष त अभ य त ओ तथ श ध र थ य
  • 12 59 29 N 80 14 01 E 12.99151 N 80.23362 E 12.99151 80.23362 भ रत य प र द य ग क स स थ न मद र स अ ग र ज Indian Institute of Technology Madras भ रत
  • उत तर खण ड प र द य ग क व श वव द य लय भ रत क उत तर ख ड र ज य म स थ त एक प र द य ग क व श वव द य लय ह
  • भ रत य प र द य ग क स स थ न र जस थ न Indian Institute of Technology Rajasthan भ रत क प र द य ग क श क षण क स स थ न ह यह र जस थ न क ज धप र म स थ त
  • 1971 म अस त त व म आय थ प र द य ग क स स थ न अध न यम 2012 क तहत 30 अप र ल 2012 क यह एक भ रत य प र द य ग क स स थ न आईआईट म स श ध त ह आ
  • भ रत य प र द य ग क स स थ न, र ड क भ रत क एक स र वजन क इ ज न यर व श वव द य लय ह यह उत तर खण ड र ज य क र ड क म स थ त ह पहल इसक न म र ड क
उच्च प्रौद्योगिकी
                                               

उच्च प्रौद्योगिकी

वह प्रौद्योगिकी जो उपलब्ध प्रौद्योगिकियों में से सबसे उन्नत होती है उसे उच्च प्रौद्योगिकी खते हैं। इसका विलोम निम्न प्रौद्योगिकी है। सरल और प्रायः पारम्परिक प्रौद्योगिकी को निम्न प्रौद्योगिकी कहा जाता है। उदाहरण के लिए, स्लाइड रूल एक निम्न प्रौद्योगिकी वाली युक्ति है।

एमआईटी प्रौद्योगिकी की समीक्षा
                                               

एमआईटी प्रौद्योगिकी की समीक्षा

MIT प्रौद्योगिकी समीक्षा मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के स्वामित्व वाली एक पत्रिका है, और संपादकीय रूप से विश्वविद्यालय से स्वतंत्र है। इसकी स्थापना 1899 में द टेक्नोलॉजी रिव्यू के रूप में हुई थी, और इसे 23 अप्रैल 1998 को इसके नाम के बिना "द" के बिना फिर से लॉन्च किया गया था। उसके बाद प्रकाशक आर। ब्रूस जर्नी। सितंबर 2005 में, इसके तत्कालीन प्रधान संपादक और प्रकाशक, जेसन पोंटिन के तहत, इसे ऐतिहासिक पत्रिका के रूप में बदल दिया गया था।

महेन्द्रपर्वत
                                               

महेन्द्रपर्वत

महेन्द्रपर्वत कम्बोडिया के खमेर साम्राज्य के काल एक प्राचीन नगर है। दशकों से इस नगर के अस्तित्व के बारे में पता था किन्तु इस नगर का अधिकांश भाग वन और मिट्टी से ढक गया था। सन २०१२ में एक पुरातात्विक दल ने इसका उत्खनन किया जिसमें LIDAR नामक हवाई लेजर स्कैनिंग प्रौद्योगिकी का उपयोग किया गया।

प्रतियोगिता (अर्थशास्त्र)
                                               

प्रतियोगिता (अर्थशास्त्र)

अर्थशास्त्र के सन्दर्भ में, उस स्थिति को प्रतियोगिता या प्रतिस्पर्धा कहते हैं जिसमें किसी सीमित आवश्यकता वाले बाजार में विभिन्न फर्में अपन-अपना अंश बढ़ाने का प्रयत्न करतीं हैं। परम्परागत अर्थ-चिन्तन में, प्रतिस्पर्धा फर्मों को नए उत्पाद, सेवा या प्रौद्योगिकी के निर्माण की दिशा में ले जाती है जिससे उपभोक्ताओं को पहले से अधिक विकल्प एवं बेहतर उत्पाद प्राप्त होते हैं। अधिक विकल्प होने पर प्रायः उत्पाद का कम मूल्य देना पड़ता है। यदि प्रतिस्पर्धा न होती तो वही उत्पाद अधिक मूल्य पर मिलता।