Топ-100
पिछला

ⓘ प्रकृति, व्यापकतम अर्थ में, प्राकृतिक, भौतिक या पदार्थिक जगत या ब्रह्माण्ड हैं। प्रकृति का सन्दर्भ भौतिक जगत के दृग्विषय से हो सकता है और सामन्यतः जीवन से भी हो ..




                                               

प्राणी

प्राणी या जन्तु या जानवर ऐनिमेलिया या मेटाज़ोआ जगत के बहुकोशिकीय, जंतुसम पोषण प्रदर्शित करने वाले, और सुकेंद्रिक जीवों का एक मुख्य समूह है। पैदा होने के बाद जैसे-जैसे कोई प्राणी बड़ा होता है उसकी शारीरिक योजना निर्धारित रूप से विकसित होती जाती है, हालांकि कुछ प्राणी जीवन में आगे जाकर कायान्तरण की प्रकिया से गुज़रते हैं। अधिकांश जन्तु गतिशील होते हैं, अर्थात अपने आप और स्वतंत्र रूप से गति कर सकते हैं। अधिकांश जन्तु परपोषी भी होते हैं, अर्थात वे भोजन के लिए दूसरे जन्तु पर निर्भर रहते हैं। अधिकतम ज्ञात जन्तु संघ 542 करोड़ साल पहले कैम्ब्रियन विस्फोट के दौरान जीवाश्म रिकॉर्ड में समुद्री प्रजात ...

                                               

भूविज्ञान

पृथ्वी से सम्बंधित ज्ञान ही भूविज्ञान कहलाता है। भूविज्ञान या भौमिकी वह विज्ञान है जिसमें ठोस पृथ्वी का निर्माण करने वाली शैलों तथा उन प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जाता है जिनसे शैलों, भूपर्पटी और स्थलरूपों का विकास होता है। इसके अंतर्गत पृथ्वी संबंधी अनेकानेक विषय आ जाते हैं जैसे, खनिज शास्त्र, तलछट विज्ञान, भूमापन और खनन इंजीनियरी इत्यादि। इसके अध्ययन बिषयों में से एक मुख्य प्रकरण उन क्रियाओं की विवेचना है जो चिरंतन काल से भूगर्भ में होती चली आ रही हैं एवं जिनके फलस्वरूप भूपृष्ठ का रूप निरंतर परिवर्तित होता रहता है, यद्यपि उसकी गति साधारणतया बहुत ही मंद होती है। अन्य प्रकरणों में पृथ्वी की ...

                                               

वनस्पति विज्ञान

जीव जंतुओं या किसी भी जीवित वस्तु के अध्ययन को जीवविज्ञान या बायोलोजी कहते हैं। इस विज्ञान की मुख्यतः दो शाखाएँ हैं: 1 प्राणिविज्ञान Zoology, जिसमें जंतुओं का अध्ययन होता है और 2 वनस्पतिविज्ञान Botany या पादपविज्ञान Plant Science, जिसमें पादपों का अध्ययन होता है।

                                               

उच्चावच

उच्चावच धरातल की ऊँचाई-निचाई से बनने वाले प्रतिरूप या पैटर्न को कहते हैं। क्षेत्रीय स्तर पर उच्चावच भू-आकृतिक प्रदेशों के रूप में व्यक्त होता है और छोटे स्तर पर यह एक स्थलरूप या स्थलरूपों के एक संयुक्त समूह का प्रतिनिधित्व करता है। पृथ्वी पर तीन प्रकार के उच्चावच पाये जाते हैं- 1- प्रथम श्रेणी उच्चावच:- इसके अन्तर्गत महाद्वीप एवं महासागरीय बेसिन को शामिल किया जाता है। 2- द्वितीय श्रेणी के उच्चावच:- पर्वत, पठार, मैदान तथा झील आदि द्वितीय श्रेणी के उच्चावच हैं। 3- तृतीय श्रेणी उच्चावच:- सरिता,खाङी, डेल्टा, सागरीय जल, भूमिगत जल, पवन, हिमनद आदि के कारण उत्पन्न स्थलाकृतियों को तृतीय श्रेणी उच्च ...

                                               

जल

जल या पानी एक आम रासायनिक पदार्थ है जिसका अणु दो हाइड्रोजन परमाणु और एक ऑक्सीजन परमाणु से बना है - H 2 O। यह सारे प्राणियों के जीवन का आधार है। आमतौपर जल शब्द का प्रयोग द्रव अवस्था के लिए उपयोग में लाया जाता है पर यह ठोस अवस्था और गैसीय अवस्था में भी पाया जाता है। पानी जल-आत्मीय सतहों पर तरल-क्रिस्टल के रूप में भी पाया जाता है। पृथ्वी का लगभग 71% सतह को 1.460 पीटा टन पीटी 10 21 किलोग्राम जल से आच्छदित है जो अधिकतर महासागरों और अन्य बड़े जल निकायों का हिस्सा होता है इसके अतिरिक्त, 1.6% भूमिगत जल एक्वीफर और 0.001% जल वाष्प और बादल इनका गठन हवा में जल के निलंबित ठोस और द्रव कणों से होता है के ...

                                               

महाद्वीप

महाद्वीप en:Continent एक विस्तृत जमीन का फैलाव है जो पृथ्वी पर समुद्र से अलग दिखाई देतै हैं। महाद्वीप को व्यक्त करने के कोई स्पष्ट मापदण्ड नहीं है। अलग-अलग सभ्यताओं और वैज्ञानिकों नें महाद्वीप की अलग परिभाषा दी है। पर आम राय ये है कि एक महाद्वीप धरती का बहुत बड़ा विस्तृत क्षेत्र होता है जिसकी सीमाएं स्पष्ट पहचानी जा सके. पृथ्वी पर कितने महाद्वीप है इस बात पर पूरी सहमति नहीं है। कुछ लोग चार या पाँच महाद्वीप स्वीकरते है पर अधिकतर लोग छः, या सात महाद्वीप के होने का मत रखते हैं। भूवैज्ञानिकों मे मुख्य रूप से दो मतभेद है। पहला तो ये कि क्या यूरोप और एशिया को अलग-अलग महाद्वीप मानें या इन दोनों क ...

                                               

अस्तित्व

जीवन के अस्तित्व जीवन का उद्देश्य है बस रोटी बनावट या मकान नहीं है । लेकिन अपने जन्म के उद्देश्य को पता करने के लिए इसका मतलब है अपने अस्तित्व को दबाया नहीं है. एक व्यक्ति के जीवन का उद्देश्य और अस्तित्व के लिए कहा और नहीं कहा कि व्यक्ति के कर्म का एक रूप है. और इन बातों के और अधिक विवरण के लिए मानव जीवन है कि सोच - Vicariate पर एक नजर डालना आवश्यक है. जीव के जन्म और मृत्यु के बीच के अंतर को अविवाहित जीवन पते. लेकिन जीव का जन्म क्यों होता है? या कोई अपने स्टैंड के लिए होता है? क्या प्रयोजन है? इन सवालों के जवाब के लिए आत्मा के कर्मो पर आधारित है, जो प्रकृति के देश के अंतर्गत है. और जो इन म ...

                                               

प्राथमिक ऊर्जा

प्राथमिक ऊर्जा) प्रकृति में पाया जाने वाला ऊर्जा का एक ऐसा रूप है जिसे किसी भी मानव अभियांत्रिकी रूपांतरण प्रक्रिया के अधीन रूपांतरित नहीं किया गया हो। यह वो ऊर्जा है जो कच्चे ईंधन में निहित होता है, और इस ऊर्जा के अन्य रूपों को एक प्रणाली द्वारा अपने ऊर्जा स्रोत के रूप में प्राप्त किया जाता है। प्राथमिक ऊर्जा अनवीकरणीय या नवीकरणीय भी हो सकती है।

प्रकृति
                                     

ⓘ प्रकृति

English version: Nature

प्रकृति, व्यापकतम अर्थ में, प्राकृतिक, भौतिक या पदार्थिक जगत या ब्रह्माण्ड हैं। "प्रकृति" का सन्दर्भ भौतिक जगत के दृग्विषय से हो सकता है और सामन्यतः जीवन से भी हो सकता हैं। प्रकृति का अध्ययन, विज्ञान के अध्ययन का बड़ा हिस्सा है। यद्यपि मानव प्रकृति का हिस्सा है, मानवी क्रिया को प्रायः अन्य प्राकृतिक दृग्विषय से अलग श्रेणी के रूप में समझा जाता है। मानव और पशुपक्षी आदि सभी प्रकृति की ही तो देन है!मान व अपनी विकास की ओर बढता जा रहा है! पर वह प्रकृति की अनदेखा कर रहा है!

                                     

1. पृथ्वी

पृथ्वी एकमात्र ग्रह है जो जीवन का समर्थन करने के लिए जाना जाता है, और इसकी प्राकृतिक विशेषताएं वैज्ञानिक अनुसंधान के कई क्षेत्रों का विषय हैं। सौर मंडल के भीतर, यह सूरज के निकट तीसरा है; यह सबसे बड़ा स्थलीय ग्रह और पांचवां सबसे बड़ा समग्र है। इसकी सबसे प्रमुख जलवायु विशेषताएं इसके दो बड़े ध्रुवीय क्षेत्र हैं, दो अपेक्षाकृत संकीर्ण समशीतोष्ण क्षेत्रों और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्र में उष्णकटिबंधीय एक विस्तृत।

भूशास्त्र

भूविज्ञान विज्ञान और ठोस और तरल पदार्थ का अध्ययन है जो पृथ्वी का गठन करता है। भूविज्ञान के क्षेत्र में संरचना, संरचना, भौतिक गुणों, गतिशीलता, और पृथ्वी सामग्री के इतिहास का अध्ययन शामिल है, और प्रक्रियाओं जिसके द्वारा वे बनते हैं, चले गए हैं, और बदलते हैं। यह क्षेत्र एक प्रमुख शैक्षणिक अनुशासन है, और खनिज और हाइड्रोकार्बन निष्कर्षण, प्राकृतिक खतरों के बारे में जानकारी, और कुछ भू-तकनीकी इंजीनियरिंग क्षेत्रों, और पिछली मौसम और वातावरण को समझने के लिए भी महत्वपूर्ण है।

                                     

2. पृथ्वी पर जल

कुण्ड

=== नदियाँ ===नदियों वर्सो से हमारे लिए जीवन दयनीय रही हैं नदियों को बिना हमारा कोई जीवन नहीं इसलिए हमें नदियों को हमेशा स्वच्छ रखना चाहिए क्योंकि इन्हीं से हम मानवों का भविष्य जुड़ा हुआ है ।

                                     
  • अ तर र ष ट र य प रक त स रक षण स घ अ ग र ज International Union for Conservation of Nature प र क त क स स धन क स रक षण क ल ए समर प त एक अ तर र ष ट र य
  • प रक त प र ष क ल द स श वम गल स ह स मन क रचन ह द  व ब श वम गल स ह स मन क क त य पद य क त य - ह ल ल ल ज वन क ग न प रलय - स जन व श व स
  • अवध रण क व य पक उपय ग ह त ह प रक त हम र ल ए म त र स स धन क स र त न ह कर प र रण क भ स र त ह त ह प रक त अभ प र र त न र म ण क अवध रण क ई
  • अन क भ रत य दर शन म प रक त क चर च ह ई ह प रक त म ल क रण, स वभ व य र प स ख य दर शन म सत क र यव द क अन स र क र य अपन क रण म उत पत त
  • दर शन म प रक त क द अर थ ह त ह पहल इसक सन दर भ उन स र च ज क सम च चय स ह ज प र क त क ह य प रक त क व ध क अन स र स म न य र प स
  • प रक त व ज ञ न प रक त क पत व स स ब ध त ज नक र द त ह
  • प रक त स अप ल अ ग र ज Appeal to nature एक तरह क तर क ह ज सम यह प रस त व त क य ज त ह क क ई वस त अच छ ह क य क वह प र क त क ह य
  • गए प रक त क स त नए आश चर य म मतद न क मध यम स आश चर य च न गय थ इसस स अध क द श न भ ग ल य थ इस प रत य ग त म ज न क प रक त क स त
  • प रक त बन म प लन - प षण अ ग र ज Nature versus nurture मन व ज ञ न और स म ज क मन व ज ञ न क शब द वल और अवध रण ह ज सक प रय ग व यक त य क जन मज त
  • र प न तर र श प रक त ह प रक त क व व ध पर ण म क प रत प दन ह इस ब रह मव वर त प र ण म प र प त ह त ह कहन क त त पर य ह प रक त क भ न न - भ न न
  • वरर च आद व य करण न प र क त भ ष ओ क प रक त स स क त क म नकर उसस प र क त शब द क व य त पत त क ह प रक त स स क त तत रभव तत आगत व प र क तम
  • सम ब ध य व श ल षण इसक सबस प रम ख ध रण स ष ट क प रक त - प र ष स बन ह न क ह यह प रक त य न प चमह भ त स बन जड ह और प र ष य न ज व त म
छत्तीसगढ़ पुलिस
                                               

छत्तीसगढ़ पुलिस

छत्तीसगढ़ पुलिस भारत में छत्तीसगढ़ राज्य के लिए कानून प्रवर्तन बल है। बल छत्तीसगढ़ सरकार के गृह मंत्रालय के अन्तर्गत आती है। बल के पास राज्य के कुछ जिलों में नक्सली-माओवादी उग्रवाद से लड़ने के लिए विशेष इकाइयाँ हैं। छत्तीसगढ़ पुलिस के महानिदेशक डीएम अवस्थी हैं